शिव शक्ति से ही पूर्ण हैं भजन लिरिक्स Shiv Shakti Se Hi Purn Lyrics

शिव शक्ति से ही पूर्ण हैं भजन लिरिक्स Shiv Shakti Se Hi Purn Lyrics

शिव शक्ति से ही पूर्ण हैं,
शक्ति के वो सिंदूर हैं,
गौरी के गौरव के लिए,
जो हो रहे अब दूर है,
शिव शक्ति से ही पूर्ण हैं,
शक्ति के वो सिंदूर हैं।

गौरी के गौरव के लिए,
जो हो रहे अब दूर हैं,
कोई तोड़ ना है बिछोह का,
नाही मोल मन के मोह का,
कोई तोड़ ना है बिछोह का,
नाही मोल मन के मोह का,

शिव जाने क्या है काली का,
अस्तित्व आदीशक्ति का,
विचलित करे ना भावना,
नाही दे सके कोई सांत्वना ।
नियती है बंधन से परे,
जो रच दीया सो वो करे,
शिव शक्ति से ही पूर्ण है,
शक्ति के वो सिंदूर है,
गौरी के गौरव के लिए,
जो हो रहे अब दूर हैं।

कैलाश की गृह स्वामिनी,
शिव की हूँ मैं अर्धांगिनी,
निर्माण मेरे अस्तित्व का,
खंडन ना हो दायित्व का,
अब ना कोई अवरोध हो,
अब मेरे मन का बोध हो ।
महाकाल की महाकालिका,
परमेश्वरी पथपालिका,
अब तक स्वयं से दुर है,
यही शक्ति तो सम्पूर्ण है,
यही शक्ति तो सम्पूर्ण है,
यही शक्ति तो सम्पूर्ण है,
यही शक्ति तो सम्पूर्ण है ।
शिव शक्ति से ही पूर्ण है,
शक्ति के वो सिंदूर है,
गौरी के गौरव के लिए,
जो हो रहे अब दूर है ।

See This Lyrics also:   दीनानाथ मेरी बात छानी कोनी तेरे से भजन लिरिक्स

Shiv Shakti Se Hi Purn Lyrics

Shiv Shakti Se Hi Purn Hai
Shiv Shakti Se Hi Purn Hai,
Shakti Ke Wo Sindoor Hai,
Gauri Ke Gaurav Ke Liye,
Jo Ho Rahe Ab Door Hai.
Shiv Shakti Se Hi Purn Hai,
Shakti Ke Wo Sindoor Hai,
Gauri Ke Gaurav Ke Liye,
Jo Ho Rahe Ab Door Hai.

Koi Tod Na Hai Bichhoh Ka,
Naahi Mol Man Ke Moh Ka,
Koee Tod Na Hai Bichhoh Ka,
Naahi Mol Man Ke Moh Ka.
Shiv Jaane Kya Hai Kaalee Ka,
Astitv Aadeeshakti Ka,
Vichalit Kare Na Bhaavana,
Naahi De Sake Koee Saantvana.

Niyatee Hai Bandhan Se Pare,
Jo Rach Deeya So Wo Kare.
Shiv Shakti Se Hi Purn Hai,
Shakti Ke Wo Sindoor Hai,
Gauri Ke Gaurav Ke Liye,
Jo Ho Rahe Ab Door Hai.

Kailaash Kee Grh Svaaminee,
Shiv Kee Hoon Main Ardhaanginee,
Nirmaan Mere Astitv Ka,
Khandan Na Ho Daayitv Ka,
Ab Na Koee Avarodh Ho,
Ab Mere Man Ka Bodh Ho.
Mahaakaal Kee Mahaakaalika,
Parameshvaree Pathapaalika,
Ab Tak Svayan Se Dur Hai,
Yahi Shakti To Sampurn Hai,
Yahi Shakti To Sampurn Hai,
Yahi Shakti To Sampurn Hai,
Yahi Shakti To Sampurn Hai.

 Shiv Shakti Se Hi Purn Hai,
Shakti Ke Wo Sindoor Hai,
Gauri Ke Gaurav Ke Liye,
Jo Ho Rahe Ab Door Hai.

See This Lyrics also:   आरती श्री संतोषी मां की हिंदी, Aarti santoshi mata ki hindi lyrics आरती श्री संतोषी मां 

Leave a Comment