श्री रामचन्द्र कृपालु भजमन लिरिक्स

श्री रामचन्द्र कृपालु भजु मन ,
हरण भवभय दारुणम् ।
नवकञ्ज लोचन कञ्ज मुख कर ,
कञ्ज पद कञ्जारुणम्। १

कंदर्प अगणित अमित छबि ,
नव नील नीरज सुन्दरम् ।
पटपीत मानहुं तड़ित रुचि सुचि ,
नौमि जनक सुतावरम्। २
श्रीरामचन्द्र …..

भजु दीन बन्धु दिनेश दानव ,
दैत्यवंश निकन्दनम् ।
रघुनन्द आनंद कंद कोशल ,
चन्द दशरथ नन्दनम्। ३
श्रीरामचन्द्र …..

सिर मुकुट कुण्डल तिलक चारु ,
उदारु अंग विभूषणम् ।
आजानुभुज सर चाप धर ,
संग्राम जित खरदूषणम्। ४
श्रीरामचन्द्र …..

इति वदति तुलसीदास शंकर ,
शेष मुनि मनरंजनम् ।
मम हृदय कंज निवास कुरु ,
कामादि खल दल गंजनम्। ५

श्री रामचन्द्र कृपालु भजु मन ,
हरण भवभय दारुणम् ।
नवकञ्ज लोचन कञ्ज मुख कर ,
कञ्ज पद कञ्जारुणम्।

kumar vishu ke bhajan video

श्री रामचन्द्र कृपालु भजमन लिरिक्स shri ram chandra kripalu bhajman shree ram ji bhajan lyrics in hindi
राम जी भजन लिरिक्स श्री रामचन्द्र कृपालु भजमन
भजन :- श्री रामचन्द्र कृपालु भजु
गायक :- कुमार विशु

Leave a Reply