सुन मारी सुरता अजब कामनी भजन लिरिक्स

।। दोहा ।।
कबीरा सोया क्या करे , उठने भजे नी भगवान ।
जम जब घर ले जायेंगे , पड़ी रहेगी म्यान ।

घर रा देवलिया में घोर अंधेरो ,
पछे पर घर दिवला क्यूं जोवे ।
सुण म्हारी सुरता अजब कामणी ,
भजन बिन हिरलो क्यूं खोवे ॥

घर रो सोगरो सेक नहीं जाणे ,
पर घर फलका क्यूं पोवे ।
सुण म्हारी सुरता अजब कामणी ,
भजन बिन हिरलो क्यूं खोवे ॥

घर रा देवळिया में समंद भरिया है ,
नाडा में कपड़ा क्यूं धोवे ।
सुण म्हारी सुरता अजब कामणी ,
भजन बिन हिरलों क्यूं खोवे ॥

घर रा देवळिया में बाग बगीचा ,
पर घर फुलडा क्यूं जोवे ।
सुण म्हारी सुरता अजब कामणी ,
भजन बिन हिरलो क्यूं खोवे ॥

मंदिर जायने पूजे गोगा जी ,
पछे घर आवे जद क्यूं रोवे ।
सुण म्हारी सुरता अजब कामणी ,
भजन बिन हिरलो क्यूं खोवे ॥

घर में थारे लड़े उन्दरिया ,
पर घर पड़ौसी रे काँई जोवे ॥
सुण म्हारी सुरता अजब कामणी ,
भजन बिन हिरलो क्यूं खोवे ॥

कहत कबीर सुणो रे भाई संतों !
हिरलां में मोती संत पोवे ।
सुण म्हारी सुरता अजब कामणी ,
भजन बिन हिरलो क्यूं खोवे ।।

prakash mali bhajan rajasthani Video

भजन :- सुण म्हारी सुरता अजब कामणी
गायक :- प्रकाश माली

सुन मारी सुरता अजब कामनी sun mari surta bhajan, prakash mali bhajan rajasthani, चेतावनी भजन, chetavani bhajan

Leave a Reply