मधुबन में झूला झूल रहे राधेश्याम मदन मुरारी भजन लिरिक्स

मधुबन में झूला झूल रहे, राधेश्याम मदन मुरारी,
राधे श्याम मदन मुरारी राधे श्याम कुंज बिहारी,
मधुबन में झूला झूल रहे..

मोर मुकुट कानों में कुंडल,
रूप निहारत सब ब्रजमंडल,
दर्शन कर सुद्ध बुद्ध भूल रहे, राधे संग कुंज बिहारी,
मधुबन में झूला झूल रहे..

खड़ा मनसुखा लेकर सोटा,
सखियां दे रही लंबे झोटा,
अंबर में बादल झूम रहे, राधे श्याम कुंज बिहारी,
मधुबन में झूला झूल रहे..

कूक रही है कोयल काली,
लता पता छाई हरियाली,
बागों में कलियां महक रही, राधे श्याम कुंज बिहारी,
मधुबन में झूला झूल रहे..

प्रेमी ब्रिज लागे मनभावन,
रिमझिम रिमझिम बरसे सावन,
सब गोपी ग्वाला झूम रहे, राधे श्याम कुंज बिहारी,
मधुबन में झूला झूल रहे..

madhuban mein jhula jhul rahe radheshyam madan murari bhajan Lyrics

madhuban mein jhula jhul rahe, radheshyam madan murari,
radhe shyam madan murari radhe shyam kunj bihari,
madhuban mein jhula jhul rahe..

mor mukut kanon mein kundal,
rup niharat sab brajamandal,
darshan kar suddh buddh bhul rahe, radhe sang kunj bihari,
madhuban mein jhula jhul rahe..

khada manasukha lekar sota,
sakhiyan de rahi lambe jhota,
ambar mein badal jhum rahe, radhe shyam kunj bihari,
madhuban mein jhula jhul rahe..

kuk rahi hai koyal kali,
lata pata chhai hariyali,
bagon mein kaliyan mahak rahi, radhe shyam kunj bihari,
madhuban mein jhula jhul rahe..

premi brij lage manabhavan,
rimajhim rimajhim barase savan,
sab gopi gvala jhum rahe, radhe shyam kunj bihari,
madhuban mein jhula jhul rahe..

कृष्ण भजन लिरिक्स

Leave a Comment