ॐ असतो मा सद्गमय तमसो मा ज्योतिर्गमय

ॐ असतो मा सद्गमय।
तमसो मा ज्योतिर्गमय।
मृत्योर्मामृतं गमय ॥
ॐ शान्ति शान्ति शान्तिः ॥

-बृहदारण्यकोपनिषद् 1.3.28

पवमान मन्त्र या पवमान अभयारोह बृहदारण्यक उपनिषद में विद्यमान एक मन्त्र है। यह मन्त्र मूलतः सोम यज्ञ की स्तुति में यजमान द्वारा गाया जाता था।

हिन्दी में अर्थ :
हे प्रभु मुझे असत्य से सत्य की ओर ।
मुझे अन्धकार से प्रकाश की ओर ।
और मुझे मृत्यु से अमरता की ओर ले चलो॥

Om Asatoma Satgamaya
Tamasoma Jyotir Gamaya
Mrityorma Amritam Gamaya

Lead us from Deception to Truth,
from Darkness to Light,
from Death to Blissful Immortality

Om Shati Shanti Shanti
Om Shati Shanti Shanti

Om Asatoma Satgamaya
Tamasoma Jyotir Gamaya
Mrityorma Amritam Gamaya

Om Shati Shanti Shanti
Om Shati Shanti Shanti

Om Asatoma Satgamaya
Tamasoma Jyotir Gamaya
Mrityorma Amritam Gamaya

See This Lyrics also:   त्वमेव माता च पिता त्वमेव

Leave a Comment