अवधू भजन भेद है न्यारा भजन लिरिक्स

अवधू भजन भेद है न्यारा Avadhu Bhajan Bhed Hai Nyara संत कबीर भजन हिंदी

अवधू भजन भेद है न्यारा

अवधू भजन भेद है न्यारा।

क्या गावे क्या लिख बतलाये ,
क्या भरम संसारा।
क्या संध्या तर्पण कीन्हे ,
जो नहीं तत्त विचारा।
अवधू ….

मूढ़ मुढ़ाये सिर जटा रखाये ,
क्या तन लाये छारा।
क्या पूजा पावन की कीन्हे ,
क्या फल किये अहारा।
अवधू ….

बिन परिचे साहेब होई बैठे ,
विषय करे व्यापारा।
ज्ञान ध्यान का मर्म न जाने ,
बात करे अहंकारा।
अवधू ….

अगम अयाह माया अति गहरा ,
बीज न खेत निवारा।
माया सो ध्यान मगन हो बैठे ,
काट करम की छारा।
अवधू ….

जिनके सदा अहार अंतर में ,
केवल तत्त विचारा।
कहे कबीर सुनो हो गोरख ,
तारा सहित परिवारा।
अवधू ….

See This Lyrics also:   खेतेश्वर को जप ले प्राणी में समझाऊं घडी घडी भजन लिरिक्स

desi marwadi bhajan
avadhoo bhajan bhed hai nyaara.

Avadhu Bhajan Bhed Hai Nyara bhajan English lyrics

avadhoo bhajan bhed hai nyaara.

kya gaave kya likh batalaaye ,
kya bharam sansaara.
kya sandhya tarpan keenhe ,
jo nahin tatt vichaara.
avadhoo ….

moodh mudhaaye sir jata rakhaaye ,
kya tan laaye chhaara.
kya pooja paavan kee keenhe ,
kya phal kiye ahaara.
avadhoo ….

bin pariche saaheb hoee baithe ,
vishay kare vyaapaara.
gyaan dhyaan ka marm na jaane ,
baat kare ahankaara.
avadhoo ….

agam ayaah maaya ati gahara ,
beej na khet nivaara.
maaya so dhyaan magan ho baithe ,
kaat karam kee chhaara.
avadhoo ….

jinake sada ahaar antar mein ,
keval tatt vichaara.
kahe kabeer suno ho gorakh ,
taara sahit parivaara.
avadhoo ….

संत कबीर भजन हिंदी
अवधू भजन भेद है न्यारा।

See This Lyrics also:   साधु भाई ! परखो सबद टकसारा भजन लिरिक्स

hindi bhajan lyrics अवधू भजन भेद है न्यारा

अवधू भजन भेद है न्यारा।

क्या गावे क्या लिख बतलाये ,क्या भरम संसारा।
क्या संध्या तर्पण कीन्हे ,जो नहीं तत्त विचारा।
अवधू ….

मूढ़ मुढ़ाये सिर जटा रखाये ,क्या तन लाये छारा।
क्या पूजा पावन की कीन्हे ,क्या फल किये अहारा।
अवधू ….

बिन परिचे साहेब होई बैठे ,विषय करे व्यापारा।
ज्ञान ध्यान का मर्म न जाने ,बात करे अहंकारा।
अवधू ….

अगम अयाह माया अति गहरा ,बीज न खेत निवारा।
माया सो ध्यान मगन हो बैठे ,काट करम की छारा।
अवधू ….

जिनके सदा अहार अंतर में ,केवल तत्त विचारा।
कहे कबीर सुनो हो गोरख ,तारा सहित परिवारा।
अवधू ….

kabir bhajan video hindi

Bhajan / Geet(भजन ) == अवधू भजन भेद है न्यारा
Bhajan Singer/गायक = राजीव मेहरा
Bhajan Lyrics Type = भजन Lyrics

See This Lyrics also:   हद में तो दाता खेल रचाया भजन लिरिक्स

Leave a Comment