गाया वाला कानजी रे भजन लिरिक्स

।। दोहा ।।
राधे तू बड़भागिनी, कोण तपस्या कीन।
तीन लोक तारण तिरण, सो है तेरे आधीन।

गाया वाला काँजी रे।
थारी गाया ने पाछी घेर ,
कुए पर ऐकली रे।

चरती गाया ना मुड़े रे गुजरी।
घूँघट का पट खोल ,
कुए पर ऐकली रे।

सुसरो म्हारो चौधरी रे, कानुड़ा।
सासु बड़ी छे होशियार ,
कुए पर ऐकली रे।

आभा चमके बिजली रे, कानुड़ा।
बरसे है मुसळधार ,
कुए पर ऐकली रे।

बागा बोले कोयली रे, कानुड़ा।
वन में दादुर मोर ,
कुए पर ऐकली रे।

चंद्र सखी री विनती रे, कानुड़ा।
भवजल पार उतार ,
कुए पर ऐकली रे।

rajkumar swami ke bhajan,

गाया वाला कानजी रे भजन लिरिक्स, Gaya Wala Kanji Re shri krishna kanhaiya ke bhajan hindi lyrics,
श्री कृष्ण कन्हैया के भजन लिरिक्स,
भजन :- गाया वाला कानजी रे,
गायक :- राजकुमार स्वामी,

 

Leave a Reply