नहीं चलाओ बाण व्यंग के ऐह विभीषण ताना ना सेह पाऊं, क्यों तोड़ी है यह माला,

नहीं चलाओ बाण व्यंग के ऐह विभीषण
ताना ना सेह पाऊं, क्यों तोड़ी  है यह माला,
तुझे  ए  लंकापति बतलाऊं
मुझ में भी है तुझ में भी है, सब में है समझाऊं
ऐ लंका पति विभीषण ले देख मैं तुझ को आज दिखाऊं

– जय श्री राम

श्री राम जानकी बैठे हैं मेरे सीने में,
देख लो मेरे मन के नागिनें में ।

मुझ को कीर्ति न वैभव न यश चाहिए,
राम के नाम का मुझ को रस चाहिए ।
सुख मिले ऐसे अमृत को पीने में,
श्री राम जानकी बैठे हैं मेरे सीने में  ॥

अनमोल कोई भी चीज मेरे काम की नहीं
दिखती अगर उसमे छवि सिया राम की नहीं

राम रसिया हूँ मैं, राम सुमिरन करू,
सिया राम का सदा ही मै चिंतन करू ।
सच्चा आंनंद है ऐसे जीने में श्री राम,
श्री राम जानकी बैठे हैं मेरे सीने में ॥

फाड़ सीना हैं सब को यह दिखला दिया,
भक्ति में हैं मस्ती बेधड़क दिखला दिया ।
कोई मस्ती ना सागर मीने में,
श्री राम जानकी बैठे हैं मेरे सीने में  ॥

 

shree ram janki baithe hain mere seene me

nahi chalaao baan vyang ke aih vibheeshan
taana na seh paaoon, kyon todi  hai yah maala,
tujhe  e  lankaapati batalaaoon
mujh me bhi hai tujh me bhi hai, sab me hai samjhaaoon
ai lanka pati vibheeshan le dekh maintujh ko aaj dikhaaoon

jay shri ram

shri ram jaanaki baithe hain mere seene me,
dekh lo mere man ke naaginen me

mujh ko keerti n vaibhav n ysh chaahie,
ram ke naam ka mujh ko ras chaahie
sukh mile aise amarat ko peene me,
shri ram jaanaki baithe hain mere seene me  ..

anamol koi bhi cheej mere kaam ki nahi
dikhati agar usame chhavi siya ram ki nahi

ram rasiya hoon main, ram sumiran karoo,
siya ram ka sada hi mai chintan karoo
sachcha aannand hai aise jeene me shri ram,
shri ram jaanaki baithe hain mere seene me ..

phaad seena hain sab ko yah dikhala diya,
bhakti me hain masti bedhadak dikhala diyaa
koi masti na saagar meene me,
shri ram jaanaki baithe hain mere seene me  ..

nahi chalaao baan vyang ke aih vibheeshan
taana na seh paaoon, kyon todi  hai yah maala,
tujhe  e  lankaapati batalaaoon
mujh me bhi hai tujh me bhi hai, sab me hai samjhaaoon
ai lanka pati vibheeshan le dekh maintujh ko aaj dikhaaoon

Leave a Comment