उड़ता पंखेरू विवाह मान्डियो भजन लिरिक्स

उड़ता पंखेरू विवाह मान्डियो, udta pankhru vivah mandiyo bhajan, desi marwadi lok bhajan lyrics

उड़ता पंखेरू विवाह मान्डियो ।।

उड़ते पंखेरू विवाह मांडियो ,
जर मर जानो हे मात।
उड़ते पंखेरू विवाह मांडियो ,
भई मारे पीसा ने परनाव,
साँवरियो बाबोसा रे लाडको।

लापी तो रोंदी रे लसपस लापसी ,
ऊपर गाले हे घी।
रज ने जीमो मारा जोनियाँ ,
चिडिया परोसे हे दाल।
उड़ते पंखेरू विवाह मांडियो।

हिमालय जाईने तोरण बांदियो ,
लोकि उतारे हे लू।
दिल्ली जाईने तोरण बांदियो ,
देखो विचारा सिंगार।
उड़ते पंखेरू विवाह मांडियो।

ऊंदरो जाईने मौसा बोलियों,
डूंगर खोसी हे तलवार।
जाईने मौका रो मातो मांडियो,
हुआ हे खुना रा थे लाल।
उड़ते पंखेरू विवाह मांडियो।

मेलो सु मिनी बाई निचा उतरिया ,
माथे लाडूङो री छाव।
होमी ने धकियों रे गरजी गुजरो ,
भोगियों मिनी रो मरोड़।
उड़ते पंखेरू विवाह मांडियो।

स्वर्गा सु सोनी बाई उतरिया,
लारे ऊर्जा रो दाव।
मुखा रे त्रिलोकी चंद्र री विनती ,
सुणजो ची ची लगाय।
उड़ते पंखेरू विवाह मांडियो।

See This Lyrics also:   वृन्दा विपिन विहारिन्नी , प्रन्नावो बारम्बार भजन लिरिक्स | Bhajan Lyrics

desi marwadi lok bhajan lyrics in hindi

udta pankhru vivah mandiyo

udate pankheroo vivaah maandiyo ,
jar mar jaano he maat.
udate pankheroo vivaah maandiyo ,
bhee maare peesa ne paranaav,
saanvariyo baabosa re laadako.

laapee to rondee re lasapas laapasee ,
oopar gaale he ghee.
raj ne jeemo maara joniyaan ,
chidiya parose he daal.
udate pankheroo vivaah maandiyo.

himaalay jaeene toran baandiyo ,
loki utaare he loo.
dillee jaeene toran baandiyo ,
dekho vichaara singaar.
udate pankheroo vivaah maandiyo.

oondaro jaeene mausa boliyon,
doongar khosee he talavaar.
jaeene mauka ro maato maandiyo,
hua he khuna ra the laal.
udate pankheroo vivaah maandiyo.

melo su minee baee nicha utariya ,
maathe laadoono ree chhaav.
homee ne dhakiyon re garajee gujaro ,
bhogiyon minee ro marod.
udate pankheroo vivaah maandiyo.

svarga su sonee baee utariya,
laare oorja ro daav.
mukha re trilokee chandr ree vinatee ,
sunajo chee chee lagaay.
udate pankheroo vivaah maandiyo.

मारवाड़ी लोकगीत भजन in hindi lyrics

See This Lyrics also:   पित्तरो का मन से तू ध्यान धर ले भजन लिरिक्स

उड़ता पंखेरू विवाह मान्डियो

उड़ते पंखेरू विवाह मांडियो ,जर मर जानो हे मात।
उड़ते पंखेरू विवाह मांडियो ,भई मारे पीसा ने परनाव,
साँवरियो बाबोसा रे लाडको।

लापी तो रोंदी रे लसपस लापसी ,ऊपर गाले हे घी।
रज ने जीमो मारा जोनियाँ ,चिडिया परोसे हे दाल।
उड़ते पंखेरू विवाह मांडियो।

हिमालय जाईने तोरण बांदियो ,लोकि उतारे हे लू।
दिल्ली जाईने तोरण बांदियो ,देखो विचारा सिंगार।
उड़ते पंखेरू विवाह मांडियो।

ऊंदरो जाईने मौसा बोलियों,डूंगर खोसी हे तलवार।
जाईने मौका रो मातो मांडियो,हुआ हे खुना रा थे लाल।
उड़ते पंखेरू विवाह मांडियो।

मेलो सु मिनी बाई निचा उतरिया ,माथे लाडूङो री छाव।
होमी ने धकियों रे गरजी गुजरो ,भोगियों मिनी रो मरोड़।
उड़ते पंखेरू विवाह मांडियो।

स्वर्गा सु सोनी बाई उतरिया,लारे ऊर्जा रो दाव।
मुखा रे त्रिलोकी चंद्र री विनती ,सुणजो ची ची लगाय।
उड़ते पंखेरू विवाह मांडियो।

प्रकाश माली के भजन | prakash mali bhajan video

भजन/Bhajan Title = उड़ता पंखेरू विवाह मान्डियो
गायक/Singer = = प्रकाश माली
Bhajan Text- भजन

See This Lyrics also:   भोग ला ले भोग ला ले ठाकुर, भजन लिरिक्स | Bhajan Lyrics

Leave a Comment