एक झोली में फूल भरे हैं | ek jholi mein phool bhare hain bhajan lyrics

इक झोली में फूल पड़े हैं ,
इक झोली में काँटे रे।
कोई कारण होगा ,
हाँ रे कोई कारण होगा ।
तेरे बस में कुछ भी नहीं ,
ये तो बाँटने वाला बाँटे रे।

पहले बनती हैं तकदीरें ,
फिर बनते हैं शरीर ।
यह साँई की कारीगरी है ,
तू क्यों है गम्भीर ॥
कोई कारण होगा ,
हाँ रे कोई कारण होगा।
इक झोली ……

नाग भी डस ले तो किसी को ,
मिल जाए जीवनदान ।
चींटी से भी मिट सकता है ,
किसी का नामों निशान ॥
कोई कारण होगा ,
हाँ रे कोई कारण होगा।
इक झोली ……

धन से बिस्तर मिल जाए ,
पर नींद को तरसे नैन ।
काँटों पर भी सोकर आए ,
किसी के मन को चैन ।
कोई कारण होगा ,
हाँ रे कोई कारण होगा।
इक झोली ……

सागर से भी बुझ न पाए ,
कभी किसी की प्यास ।
एक बूँद से भी जाए ,
कभी किसी की आस।
कोई कारण होगा ,
हाँ रे कोई कारण होगा।
इक झोली ……

मन्दिर मस्जिद में भी जाकर ,
कभी न आए ज्ञान ।
कभी मिले मिट्टी से मोती ,
पत्थर से भगवान्।
कोई कारण होगा ,
हाँ रे कोई कारण होगा।
इक झोली ……

हिंदी चेतावनी भजन video

एक झोली में फूल भरे हैं, ek jholi mein phool bhare hain, hindi bhajan with lyrics,हिंदी भजन संग्रह लिरिक्स, हिंदी चेतावनी भजन
भजन : – एक झोली में फूल भरे है
गायक :- विक्की नारंग

Leave a Reply