चाहे छोड़ जाए सब साथ मगर तेरा साथ नहीं छूटे लिरिक्स

।। दोहा ।।
बातों से रस घोलते ,वो गिरधर गोपाल।
प्रेम पाश मे गोपियाँ,घूम घूम दे ताल।

चाहे छोड़ जाए सब साथ,
मग़र तेरा साथ नहीं छूटे।
चाहे ग़म की हो बरसात,
मगर तेरा साथ नही छूटें।
चाहे छोड़ जाये सब साथ,
मग़र तेरा साथ नहीं छूटे।

दुनीयाँ चाहे कुछ भी समझे ,
कोई फर्क मुझे पड़ता ही नहीं।
मुझे मेरे बाबा समझते हैं ,
चाहे और कोई समझे ही नहीं।
चाहे रूठे हो हालात ,
मगर तेरा साथ नहीं छूटे।
चाहे छोड़ जाये सब साथ,
मग़र तेरा साथ नहीं छूटे।

लेले के परीक्षा सेवक की,
पहले खुद दूर भगाते हैं।
फिर भी ना छोड़े जो दामन,
उसे अपने गले लगाते है।
चाहे हो अँधेरी रात,
मगर तेरा साथ नहीं छूटे।
चाहे छोड़ जाये सब साथ,
मग़र तेरा साथ नहीं छूटे।

जिसने भी इनको जाना है,
सब कुछ ही अपना माना है।
राखी कहती हर प्रेमी से,
प्रेमी का ये दीवाना है।
हर प्रेमी कहे दिन रात,
मगर तेरा साथ नहीं छूटे।
चाहे छोड़ जाये सब साथ,
मग़र तेरा साथ नहीं छूटे।.

अंजना आर्य के भजन video

चाहे छोड़ जाए सब साथ मगर तेरा साथ नहीं छूटे chahe chod jaye sab sath krishna hindi bhajan lyrics
कृष्ण भजन हिंदी लिरिक्स
भजन :- चाहे छोड़ जाए सब साथ
गायिका :- अंजना आर्या

Leave a Reply