दीवाना राधे का भजन लिरिक्स

दीवाना राधे का ,
दीवाना राधे का ,
मुरली वाला श्याम ,
गुजरिया नचले रे ,
गुजरिया नचले रे ,
गोवर्द्धन के धाम ,
दीवाना राधे का ,
दीवाना राधे का ।

राधे – राधे जपता है ,
सबसे ये कहता है ,
प्यारी लगे राधा रानी ।
रास लीला करता है ,
राधा संग नचता है ,
कान्हा करे मन मानी ।
ग्वाल बाल तंग हुए ,
ब्रज वासी तंग हुए ,
मगन हुए घनश्याम ।
दीवाना राधे का ,
दीवाना राधे का ।….

मैयाजी हैरान हुई ,
गैया परेशान हुई ,
कान्हा हुए बे काबू ।
सोच रही रूकमणी ,
सोक मेरी कौन बणी ,
किसने किया ये जादू ।
किसकी है प्रीत में ,
खोये खोये श्याम मेर ,
छोड़ा द्वारका का धाम ।।
दीवाना राधे का ,
दीवाना राधे का ।।…

माखण से मुख मोड़ा ,
मट्ठा दही खाना छोड़ा ,
सुध बुध सब बिसराई रे ।
ग्वाळों की ये टोळी छोड़ी ,
कान्हा ने ठिठोली छोड़ी ,
बरसाने वाळी मन भाई रे ।
जमुना के तट घट ,
भूले कान्हा नटखट ,
भूल गए ब्रजधाम ।।
दीवाना राधे का ,
दीवाना राधे का ।।…

राधा संग रासे करे ,
ग्वालों को उदास करे ,
कान्हा की लीला न्यारी रे
गोपियों को तंग करे ,
मन में उमंग भरे ,
बड़े ही रंगीले गिरधारी रे ।
मथुरा में शोर मचे ,
नंद किशोर नाचे ,
वैरागी घनश्याम ।।
दीवाना राधे का ,
दीवाना राधे का ॥….

दीवाना राधे का, deewana radhe ka murli wala shyam gujariya nachle re, radha krishna bhajan, krishna kanhaiya bhajan

Leave a Reply