देवनारायण भगवान की आरती लिरिक्स | devnarayan ji ki aarti lyrics

जय श्री देव हरे ,
स्वामी जय श्री देव हरे ।
जनम जनम के पातक ,
क्षण में दूर करे ।

उत्पत्ति पालन संहार से ,
प्रभु क्रीड़ा करता ।
देव अर्थ का निशदिन ,
जो हृदये धरता ।।
जय श्री देव ….

सब प्रपंच का सुन लो ,
ईश्वर आधारा ।
नारायण शब्दार्थ लख ,
हरि उर धारा ॥
जय श्री देव ….

देव है ब्रह्मा विष्णु ,
और शंकर देवा ।
देव है गुरु पितृ माता ,
जान करो सेवा ।
जय श्री देव ….

जब जब धर्म नशावे ,
पाप बढ़े भारी ।
तब तब प्रगटो स्वामी ,
भक्तन हितकारी ॥
जय श्री देव ….

धन विद्या तुम देते ,
तुम सब कुछ दाता ।
तुम बिन और नाँहि ,
कोई नहीं आता ।
जय श्री देव ….

इष्ट देव सब जग के ,
हो अन्तर्यामी ।
प्राणी मात्र की रक्षा ,
करते तुम स्वामी ।
जय श्री देव ….

देवनारायण की आरती ,
हित चित से जो गावे
भैरा राम मन वांछित ,
फल निश्चित पावे ॥
जय श्री देव ….

hira lal gurjar bhajan video

https://www.youtube.com/watch?v=Esj0-uOxzZI

देवनारायण भगवान की आरती, devnarayan ji ki aarti, श्री देवनारायण की आरती, devnarayan bhajan lyrics, hira lal gurjar bhajan
आरती :- देवनारायण जी की
सिंगर :- हीरालाल गुर्जर

Leave a Reply