बैठी बैठी घटा में भजन लिरिक्स

।। दोहा।।
भरका भ्रम ने मैटदै , माँ जोगण जोश भराय ।
दुर्गा दुःख ने दुर करे , माँ मरमी पार लगाय ।।

बैठी – बैठी घाटा मैं ,
जोगण्या लागै प्यारी ।
दूर – दूर आवे जातरी ,
नर ओर नारी ! ओ मैया ।।
दरशण कर सब दुखड़ा कटजा ,
आनंद आवे भारी ।।
बैठी – बैठी घाटा …..

घेर घुमालों पैर घाघरो ,
औड़ कशुमल साड़ी ।
हाथो में त्रिशुल बिराजे ,
खड़ग खरपर धारी ।।
बैठी – बैठी घाटा …..

ढोल नगांरा नोपत बाजे ,
माँदल थाली ।
झालर शंख घडियाला बाजे ,
टोकरां बाजे प्यारी ।।
बैठी – बैठी घाटा …..

निर्धन ने धन देवे ,
दुखड़ा मेटे भारी ।
रोशन लाल थारी महीमा गावें ,
लाज रखज्यों मारी ।।
बैठी – बैठी घाटा …..

जगदीश वैष्णव के भजन video

बैठी बैठी घटा में भजन लिरिक्स, bethi bethi re gata me, माता जी का भजन, mata ke bhajan with lyrics,mata ji ke bhajan lyrics
भजन :- बैठी बैठी घाटा में जोगणिया
गायक :- जगदीश वैष्णव

Leave a Reply