दूर नगरी बड़ी दूर नगरी भजन लिरिक्स

। दोहा ।।
नमो नमो गुरुदेव जी, नमो नमो सब संत।
नमो पार ब्रहा ने, नमो नमो भगवंत।

दूर नगरी रे बड़ी दूर नगरी ,
दूर नगरी रे बड़ी दूर नगरी।
कैसे आऊ में कन्हैया ,
तेरी गोकु नगरी।
बड़ी दूर नगरी हां ,
दूर नगरी रे बड़ी दूर नगरी।

जमना जल जाऊ काना ,
पायल मोरी बाजे।
पायल मोरी बाजे ,पायल मोरी बाजे।
जमना जल जाऊ काना ,
पायल मोरी बाजे।
चपत चलु तो, मेरी छलके गगरी ,
बड़ी दूर नगरी।
दूर नगरी रे बड़ी दूर नगरी। टेर।

रात में आऊ तो कान्हा ,
डर मोहे लागे।
डर मोहे लागे ,रम मोहे लागे।
रात में आऊ तो कान्हा ,
डर मोहे लागे।
दिन में आऊ तो, देखे सारी नगरी ,
बड़ी दूर नगरी।
दूर नगरी रे बड़ी दूर नगरी। टेर।

तेरी नगरी में कान्हा ,
चोर बसत है।
चोर बसत है ,लुटेरे बसत है।
तेरी नगरी में कान्हा ,
चोर बसत है।
लूट लेवे जी, मोरी नथ चुनरी ,
बड़ी दूर नगरी।
दूर नगरी रे बड़ी दूर नगरी। टेर।

मीरा बाई गावे प्यारा ,
गिरधर रा गुण।
गिरधर रा गुण, मोहन रा गुण।
मीरा बाई गावे प्यारा ,
गिरधर रा गुण।
तुम्हरे दरश, बिन हो गई बावरी ,
बड़ी दूर नगरी।
दूर नगरी रे बड़ी दूर नगरी। टेर।

master rana ke bhajan

दूर नगरी बड़ी दूर नगरी भजन लिरिक्स dur nagri re badi dur nagri krishna bhajan hindi lyrics
कृष्ण भजन हिंदी लिरिक्स
भजन :- दूर नगरी रे बड़ी दूर नगरी
गायक :- मास्टर राणा

 

Leave a Reply