राम भजन में हाल प्राणिया भजन लिरिक्स

राम भजन में हाल प्राणिया भजन लिरिक्स
, Ram Bhajan Me Haal Praniya Gujrati Chetavani Bhajan Lyrics

राम भजन में हाल प्राणिया

जुग माहि थोड़का जीवणा ,
फेर जन्म मत लेवणा।
राम भजन में हाल प्राणिया।

नर नारायण थारी काया बनावी सा ,
नुगरा कोय मत रेवणा।
नुगरा नर भाई पशु समाना ,
उनका संग मत करना जी।
राम भजन में हाल प्राणिया। टेर। …

आवता नर भाई अगन समाना ,
जल पानी बने रेवणा जी।
जाणिता रे आगे अजाण होय रेवणा ,
सारी सारी बातो लेवणा जी।
राम भजन में हाल प्राणिया। टेर। …

अठारह वर्ण री गाय दोवरावो सा ,
एक मटकी माय धरणा जी।
मथी मथी थे माखण खाजो ,
पर तन उजला रखना जी।
राम भजन में हाल प्राणिया। टेर। …

काशी नगर माहि रेहता कबीर सा ,
डोरा धागा बुनता जी।
सारा संसार माहि धर्म चलायो ,
निर्गुण माला फेरवता जी।
राम भजन में हाल प्राणिया। टेर। …

इण संसार माहि जीवणा थोड़का ,
वैर किसी से मत रखना जी।
कहत कमाली कबीर सा री लड़की ,
आयो अवसर मत चूकना जी।
राम भजन में हाल प्राणिया। टेर। …

See This Lyrics also:   साधो भाई सतसंग मोक्ष द्वारा भजन लिरिक्स

Gujrati Chetavani Bhajan Lyrics

Ram Bhajan Me Haal Praniya

jug mahi thodaka jivna,
fer janam mat levna.
ram bhajan hal praniya.

nar narayan thari kaya banavi sa,
nugra koy mat revna.
nugra nar bhai pashu samana,
unka sang mat karna ji.
ram bhajan hal praniya.

aavta nar bhai agan samana,
jal pani bane revna ji.
janita re aage ajan hoy revna,
sari sari bato levna ji.
ram bhajan hal praniya.

atharah varn ri gay dovravo sa,
ek mataki maay dharan ji.
mathi mathi the makhan khajo,
par tan ujla rakhana ji.
ram bhajan hal praniya.

kashi nagar mahi rehta kabir sa,
dora dhaga bunta ji.
sara sansar mahi dharam chalayo,
nirgun mala fervata ji.
ram bhajan hal praniya.

in sansar mahi jivna thodka,
vair kisi se mat rakhna ji.
kahat kamali kabir sa ri ladaki,
aayo avasar mat chukana ji.
ram bhajan hal praniya.

गुजराती चेतावनी भजन लिरिक्स

राम भजन में हाल प्राणिया

जुग माहि थोड़का जीवणा ,फेर जन्म मत लेवणा।
राम भजन में हाल प्राणिया।

See This Lyrics also:   एक दिन वो भोले भंडारी भजन लिरिक्स

नर नारायण थारी काया बनावी सा ,नुगरा कोय मत रेवणा।
नुगरा नर भाई पशु समाना ,उनका संग मत करना जी।
राम भजन में हाल प्राणिया। टेर। …

आवता नर भाई अगन समाना ,जल पानी बने रेवणा जी।
जाणिता रे आगे अजाण होय रेवणा ,सारी सारी बातो लेवणा जी।
राम भजन में हाल प्राणिया। टेर। …

अठारह वर्ण री गाय दोवरावो सा ,एक मटकी माय धरणा जी।
मथी मथी थे माखण खाजो ,पर तन उजला रखना जी।
राम भजन में हाल प्राणिया। टेर। …

काशी नगर माहि रेहता कबीर सा ,डोरा धागा बुनता जी।
सारा संसार माहि धर्म चलायो ,निर्गुण माला फेरवता जी।
राम भजन में हाल प्राणिया। टेर। …

इण संसार माहि जीवणा थोड़का ,वैर किसी से मत रखना जी।
कहत कमाली कबीर सा री लड़की ,आयो अवसर मत चूकना जी।
राम भजन में हाल प्राणिया। टेर। …

Kamla Ben Barot Bhajan

Bhajan / Geet(भजन ) == राम भजन में हाल प्राणिया
Bhajan Singer/गायिका == कमला बेन बारोट
Bhajan Lyrics Type = भजन Lyrics

See This Lyrics also:   दो दिन का जग में मेला सब चला चली का खेला भजन लिरिक्स

Leave a Comment