श्याम मने चाकर राखो जी भजन लिरिक्स

।। दोहा ।।
सत्संगत हरी कथा, तुलसी दुर्लभ दोय।
सूत दारा और लक्मी, पापी के भी होय।

चाकर राखो जी ,
म्हाने राणी रूकमण रा भरतार।
सांवरिया म्हाने ,
चाकर राखो जी।

चाकर रहसु बाग़ लगासु,
नित उठ दर्शन पासू।
वृन्दावन री कुञ्ज गलिन में ,
गोविन्द रा गुण गासू ।
सांवरिया म्हाने ,
चाकर राखो जी। टेर।

नोकरी में दर्शन पावा ,
सुमिरण पावा खरची।
भाव भक्ति जागीरी पावा ,
तीनो बाता म्हारे सरसी।
सांवरिया म्हाने ,
चाकर राखो जी। टेर।

मोर मुकुट पीताम्बर सोवे ,
गल वैजन्ती माला।
वृंदावन में धेनु चरावे ,
मोहन मुरली वाला।
सांवरिया म्हाने ,
चाकर राखो जी। टेर।

ऊँचा ऊँचा महल चुणावा ,
अधबीच राखा बारी।
सांवरिया रा दर्शन पावा ,
लीला गावा थारी।
सांवरिया म्हाने ,
चाकर राखो जी। टेर।

जोगी आया जोग करण ने ,
तप कर ने सन्यासी।
हरी भजन ने साधु आया ,
वृन्दावन रा वासी।
सांवरिया म्हाने ,
चाकर राखो जी। टेर।

मीरा कहे प्रभु गहर गंभीरा ,
ह्रदय राखो धीरा।
आधी रात प्रभु दर्शन दीजो ,
प्रेम नदी ते तीरा।
सांवरिया म्हाने ,
चाकर राखो जी। टेर।

Bhavana Lonkar ke bhajan lyrics bhajan music video song

श्याम मने चाकर राखो जी भजन लिरिक्स sawariya mane chakar rakho ji meera bai bhajan with lyrics in hindi
मीरा बाई भजन लिरिक्स
भजन :- चाकर राखो जी
गायिका :- भावना लोणकर

Leave a Reply