बृज के नंदलाला राधा के सांवरिया भजन लिरिक्स

। दोहा ।।
पर्वत जैसी पीर है ,ह्रदय बहुत अकुाय।
राधा राधा जपत है ,विरही मन मुरझाय।

बृज के नंदलाला ,
राधा के सांवरिया।
सभी दुःख दूर हुए ,
जब तेरा नाम लिया।

मीरा पुकारी जब ,
गिरिधर गोपाला।
ढल गया अमृत में ,
विष का भरा प्याला।
कौन मिटाए उसे,
जिसे तू राखे पिया।
सभी दुःख दूर हुए ,
जब तेरा नाम लिया। टेर।

जब तेरे गोकुल में ,
आया दुख भारी।
एक इारे से ,
सब विपदा टारी।
मुड़ गया गोवर्धन ,
तुने जहाँ मोड़ दिया।
सभी दुःख दूर हुए ,
जब तेरा नाम लिया । टेर।

नैनो में श्याम बसे ,
मन में गिरधारी।
सुध बिसराए गई ,
मुरली की धुन प्यारी।
मन के मधुबन में ,
रास रचाये रसिया।
सभी दुःख दूर हुए ,
जब तेरा नाम लिया

बृज के नंदलाला ,
राधा के सांवरिया।
सभी दुःख दूर हुए ,
जब तेरा नाम लिया।

hindi bhajan lyrics in hindi Video

बृज के नंदलाला राधा के सांवरिया brij ke nandlala radha ke sawariya lyrics radhe krishna bhajan hindi lyrics
राधा कृष्ण भजन लिरिक्स
भजन :- बृज के नंदलाला
गायक :- अनिल हँसलस

Leave a Reply