हंसा ये पिंजरा नहीं तेरा भजन लिरिक्स

।। दोहा ।।
साईं इतनी दीजिए, जा में कुटुंब समाए।
मैं भी भूखा न रहूं, साधू न भूखा जाए।

हंसा ये पिंजरा नहीं तेरा ,
ये पिंजरा नहीं तेरा।

कंकड़ चुन चुन महल बनाया,
लोग कहे घर मेरा।
ना घर तेरा ना घर मेरा ,
चिड़िया रेन बसेरा।
हंसा ये पिंजरा नहीं तेरा।

बाबा दादा भाई भतीजा,
चले न संग कोई तेरा।
हाथी घोडा माल खजाना ,
पड़ा रहे धन तेरा।
हंसा ये पिंजरा नहीं तेरा।

मात पिता स्वार्थ के लोभी,
करते मेरा मेरा।
कहत कबीर सुणो भाई साधो ,
एक दिन जंगल डेरा।
हंसा ये पिंजरा नहीं तेरा।

vanshika jaral ke bhajan video

हंसा ये पिंजरा नहीं तेरा hansa ye pinjra nahi tera sant kabir ke bhajan lyrics in hindi
कबीर वाणी हिंदी भजन
भजन :- हंसा ये पिंजरा नहीं तेरा
गायिका :- वंशिका जराल

Leave a Reply