अमर हुए जी हनुमान राम की भक्ति करके

अमर हुए जी हनुमान
राम की भक्ति करके।।

फैला जगत यश मान
राम की भक्ति करके।।

अमर हुए जी हनुमान
राम की भक्ति करके
फैला जगत यश मान
राम की भक्ति करके।।

अमर हुए जी हनुमान
राम की भक्ति करके।।

सरल नहीं था सागर तरना
सौ योजना के पार उतरन
तन मन कियो जल यानि
राम की भक्ति करके।।

अमर हुए जी हनुमान
राम की भक्ति करके।।

फूक दया सोने की लंका
देयो बजाये राम का डंक।।

हे अतुल बलवानी
राम की भक्ति करके।।

अमर हुए जी हनुमान
राम की भक्ति करके।।

देने बाली चला अहिरावण
चाहा राम लखन को मारानी।।

हर लियो दानव प्राण
राम की भक्ति करके।।

आष्ट सिद्धि नव निधि के दाता
दियो वरदान जानकी मात।।

कियो है जगत कल्याण
राम की भक्ति करके।।

अमर हुए जी हनुमान
राम की भक्ति करके।।

See This Lyrics also:   बजरंग बलि जिनको सिंदूर क्यू प्यारा है

Amar Hue Jee Hanuman
Ram Ki Bhakti Karke

Faila Jagat Yash Maan
Ram Ki Bhakti Karke

Amar Hue Jee Hanuman
Ram Ki Bhakti Karke
Faila Jagat Yash Maan
Ram Ki Bhakti Karke

Amar Hue Jee Hanuman
Ram Ki Bhakti Karke

Saral Nahi Tha Sagar Tarna
Sau Yojan Ke Paar Utarna
Tan Man Kiyo Jal Yaan
Ram Ki Bhakti Karke

Amar Hue Jee Hanuman
Ram Ki Bhakti Karke

Fook Dayi Sone Ki Lanka
Deeyo Baajaye Ram Ka Danka

Kahaye Atul Balwan
Ram Ki Bhakti Karke

Amar Hue Jee Hanuman
Ram Ki Bhakti Karke

Dene Bali Chala Ahirawan
Chaaha Ram Lakhan Ko Maran

Har Liyo Danav Praan
Ram Ki Bhakti Karke

Aasht Siddhi Nav Nidhi Ke Data
Diyo Vardaan Janki Mata

Kiyo Hai Jagat Kalyan
Ram Ki Bhakti Karke

Amar Hue Jee Hanuman
Ram Ki Bhakti Karke

Leave a Comment