कलयुग में सिद्ध हो देव तुम्ही भजन लिरिक्स

कलयुग में सिद्ध हो देव तुम्ही ,
हनुमान तुम्हारा क्या कहना।

तेरी भक्ति का क्या कहना ,
तेरी शक्ति का क्या कहना।
कलयुग में सिद्ध। …..

सीता की खोज करी तुमने ,
तुम सात समुन्दर पार गये।
लंका को किया शमशान प्रभु ,
बलवान तुम्हारा क्या कहना।
तेरी भक्ति का क्या कहना ,
तेरी शक्ति का क्या कहना।
कलयुग में सिद्ध। …..

जब लक्मण जी शक्ति लगी ,
तुम द्रोणागिर पर्वत लाये।
लक्मण बचाये आकर के ,
तप प्राण तुम्हारा क्या कहना।
तेरी भक्ति का क्या कहना ,
तेरी शक्ति का क्या कहना।
कलयुग में सिद्ध। …..

तुम भक्त शिरोमणि हो जग में ,
तुम वीर शिरोमणि हो जग में।
तेरे रोम रोम में बसते है ,
सियाराम तुम्हारा क्या कहना।
तेरी भक्ति का क्या कहना ,
तेरी शक्ति का क्या कहना।
कलयुग में सिद्ध। …..

कलयुग में सिद्ध हो देव तुम्ही ,
हनुमान तुम्हारा क्या कहना।

कलयुग में सिद्ध हो देव तुम्ही भजन लिरिक्स kalyug me siddh ho dev tumhi hanuman tumhara kya kehna lyrics

Leave a Reply